स्थानीय दस्तकारों तथा पारम्परिक कारीगरों का टूलकिट मिलने से होगी कार्य कुशलता में वृद्धि एवं आर्थिक विकास।

गौतमबुद्धनगर: विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना के तहत जिलाधिकारी बी0एन0 सिंह एवं विधायक दादरी तेजपाल नागर ने संयुक्त रूप से स्थानीय दस्तकारों तथा पारम्परिक कारीगरों को वितरण की टूल किट।उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा संचालित विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना के तहत आज कलैक्ट्रेट के सभागार में जिलाधिकारी बी0एन0 सिंह की अध्यक्षता एवं विधायक दादरी के मुख्य अतिथि के रूप में कार्यक्रम आयोजित किया गया जिसमें स्थानीय दस्तकारों एवं पारम्परिक कारीगरों का विकास एवं कुशलता वृद्धि के लिए प्रशिक्षिण प्राप्त 150 लाभार्थियांे दर्जी, नाई, बढई, कुम्हार, राजमिस्त्री एवं हलवाई को टूल किट का वितरण किया गया।



इस अवसर पर जिलाधिकरी बीएन सिंह नेे कहा कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री  योगी आदित्यनाथ ने राज्य के सभी परम्परागत मजदूरों के विकास और स्वरोजगार को बढ़ावा देने के लिए विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना चलायी जा रही है और कारीगरों को उनके हुनर को निखारने के लिए छः दिवसीय आवासीय निशुल्क प्रशिक्षण दिया जा रहा है। विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना के तहत आज छः दिवसीय प्रशिक्षिण के बाद आपको जो टूलकिट दी जा रही है, उसके माध्यम से आप अपनी व अपने परिवार की आर्थिक स्थिति को सुदृढ़ बनायें और अपनी कार्यकुशलता में वृद्धि करें। जिलाधिकारी ने सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देश देते हुये कहा कि उनके द्वारा तीन दिन की अवधि के अन्दर प्रशिक्षिण की 1500 रूपये धनराषि कारीगरों के खातो में हस्तांरित करायें जाने की कार्यवाही सुनिश्चित की जाये। इस अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप दादरी विधायक तेजपाल नागर उपस्थित रहें।इस अवसर मा0 विधायक ने उपस्थित समस्त स्थानीय दस्तकारों एवं पारम्परिक कारीगरों का आहवान करते हुये कहा कि प्रदेश सरकार के राजेगार को बढावा देने के लिए विभिन्न प्रकार के कार्यक्रम एवं योजनायें संचालित की जा रही है।  राज्य के शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों के बढ़ई, दर्जी, टोकरी बुनने वाले, नाई, कुम्हार, हलवाई, जैसे पारंपरिक कारोबारियों तथा हस्तशिल्प की कला को प्रोत्साहित करने और आगे बढ़ाने के लिए राज्य सरकार ने विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना को शुरू किया गया है, जिसके तहत आज आपको प्रशिक्षिण उपरान्त टूलकिट का वितरण किया जा रहा है, उससे आप अपने कार्य करने की कुशलता मे वृद्धि करते हुये अपने अपने परिवार का आर्थिक विकास में वृद्धि करें। कार्यक्रम का सफल संचालन उपायुक्त उद्योग जिला उद्योग एवं उद्यम प्रोत्साहन केन्द्र गौतमबुद्धनगर अनिल कुमार सिंह के द्वारा किया गया।