पन्द्रहवें वित्त आयोग की सलाहकार परिषद की बैठक

नई दिल्ली - पन्द्रहवें वित्त आयोग की सलाहकार परिषद की छठी बैठक आज नई दिल्ली में हुई। बैठक की अध्यक्षता एक्सवीएफसी के अध्यक्ष एन.के. सिंह ने की और एक्सवीएफसी के सदस्य, सलाहकार परिषद के सदस्य, अन्य विशेष रूप से आमंत्रित व्यक्ति और जाने-माने विद्वान इसमें शामिल हुए। बैठक की कार्य सूची में निम्नलिखित को शामिल किया गया।



  1. वर्ष 2020-21 के लिए एक्सवी-एफसी की रिपोर्ट पर प्रतिभागियों के विचारों और रिपोर्ट में शामिल अन्य सिफारिशों को ध्यान में रखते हुए, केंद्रीय करों को एक कंपनी के विभिन्‍न घटकों के बीच साझा करना।

  2. 2021-22 से 2025-26 की अवधि में जीडीपी में मामूली वृद्धि, कराधान में होने वाले उतार-चढ़ाव और उपरोक्त अवधि में आयोग के लिए प्रासंगिक अन्य वृहद-आर्थिक मानदंडों पर विचार।


वित्‍त आयोग द्वारा करों की शुद्ध प्राप्ति की केन्‍द्र और राज्‍यों के बीच वितरण की सिफारिश और ऐसी प्राप्ति की सम्‍बद्ध हिस्‍सेदारी के राज्‍यों के बीच आवंटन की चर्चा करते हुए, रिपोर्ट में पद्धतिगत नवाचारों पर अनुकूल टिप्पणी की गई। जीडीपी के मामूली विकास और संसाधन जुटाने के विकल्प, साथ ही विभिन्न संभावनाओं के लिए सकारात्मक और नकारात्मक पहलुओं के बारे में विस्तार से चर्चा की गई, विशेष रूप से उभरते वैश्विक रुझानों और उच्च आवृत्ति, घरेलू संकेतकों में प्रतिमान पैटर्न के आलोक में। केंद्र और राज्यों के राजकोषीय संतुलन को सुनिश्चित करने में जीएसटी प्रशासन और प्रौद्योगिकी मंच को मजबूत करने पर भी जोर दिया गया।बैठक में एक्सएफसी के अध्यक्ष, सदस्यों और सलाहकार परिषद के सदस्यों के अलावा, डॉ. इंदिरा राजारमन, डॉ.अरविंद विरमानी, डॉ. एम. गोविंदा राव, डॉ. प्राची मिश्रा, डॉ. सुदीप्तो मुंडले और डॉ. कृष्णमूर्ति सुब्रमण्यन मौजूद थे। इनके अलावा डॉ. विवेक देबरॉय, रतन पी.वाटल, अमिताभ कांत, अतनु चक्रवर्ती, डॉ. टी.वी. सोमनाथन, डॉ. अनंत नागेश्‍वरन, डॉ. शंकर आचार्य, डॉ. अभिजीत सेन, डॉ. अजीत मिश्राद्व डॉ. मनोज पंडा, स्‍वामीनाथन ए. अय्यर और टी.एन. नाइनन सहित वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारियों और विद्वानों ने भी भाग लिया।