दरें बढ़ाते ही मोबाइल कंपनियों के शेयरों में उछाल। 

2 दिसम्बर को सुबह जैसे ही शेयर बाजार खुला, वैसे ही वोडाफोन, आइडिया, भारती एयरटेल और जिओ मोबाइल कंपनियों के शेयरों में भारी उछाल आ गया। ये तीनों कंपनियां कल तक 7 लाख करोड़ रुपए के कर्ज का रोना हो रही थीं, लेकिन 2 दिसम्बर को इन कंपनियों के मालिकों के चेहरे खुशी से खिल उठे। ऐसा नहीं कि इन कपंनियों में और विदेशी निवेश हो गया हो। सब जानते हैं कि 100 करोड़ प्रीपेड उपभोक्ताओं वाली इन तीनों कंपनियों ने अपनी दरों में 50 प्रतिशत की वृद्धि कर दी है। चूंकि अब इन कंपनियों को भारी मुनाफा होगा, इसलिए शेयरों के दाम बढ़ गए हैं। सवाल उठता है कि 100 करोड़ उपभोक्ताओं से लूट पर सरकार क्यों मौन है? पिछले दिनों खबर आई थी कि इन कंपनियों पर सरकार का सात लाख करोड़ रुपए बकाया है। कंपनियों के मालिकों ने सरकार से साफ कहा है कि हम घाटे में चल रहे हैं, इसलिए सरकार का बकाया नहीं चुका सकते।