84 सम्मेलन का आयोजन

भारतीय समाज में क्षत्रियों के इतिहास में आज भी राजनीति और जात पात से हटकर समाज को योगदान देने वाले का प्रतीक दिख रहा है बिहार कैमूर जिले के अंदर ग्राम बगाढ़ी में. राजपूतों में सिकरीवाल वंश के रामजी राव का  निधन  दिनांक 24/11/2019 दिन रविवार को काशी में हुआ. जिस के उपलक्ष में 84 सम्मेलन का आयोजन 09/12/2019 को  किया जा रहा हैlइस आयोजन में समाज के सभी वर्ग के लोग हिस्सा लेते हैं. क्योंकि यह कार्य किसी एक का नहीं बल्कि 84 गांव में सभी जाति धर्म के लोग मिलकर आयोजन करते हैं. क्योंकि रामजी सिंह सिकरीवाल वंश के राजा थे. जो अभी भी ऐसी परंपरा यहां सदियों से मनाया जाता है. यह परंपरा रामजी सिंह के विचारों और आदर्शों का की पहचान है. जिसे 84 गांव के सभी जाति के लोग एक साथ मिलकर कार्य करते हैं. सभी लोग श्रमदान से लेकर हर तरह का सहयोग इस आयोजन में करते हैं. लगभग 40000 लोगों का व्यवस्था नाश्ते खाने का प्रबंध किया गया है. इस आयोजन में पुरानी परंपरा से लेकर नए भारत का झलकियां दिखाई जाएगी. लगभग 5 किलोमीटर में पंडाल से लेकर गाड़ी पार्किंग की व्यवस्था की गई है. इस आयोजन में गीत संगीत से लेकर शहनाई ढोल बाजे हाथी घोड़े ऊंट के साथ शाम को कवि सम्मेलन भी रखा गया है. ग्रामीण क्षेत्र में इस तरह का आयोजन बहुत वर्षों के बाद किसी राजा की मृत्यु पर ही होती है. संजय सिंह जो स्वर्गीय गोपाल सिंह के पुत्र हैं उन्हें पगड़ी दी जाएगी.हेलमेट मैन  राघवेंद्र कुमार  अपने बाबा के आयोजन में सभी आने वाले टू व्हीलर बाइक सवारियों को हेलमेट देकर जीवन रक्षा के साथ  सड़क सुरक्षा के लिए करेंगे जागरूक.संजय सिंह राधेश्याम सिंह डॉ धनंजय सिंह डॉ राजेश सिंह गुलाब सिंह धनुषधारी सिंह मनोज सिंह गौरी शंकर सिंह हरिशंकर सिंह प्रधान सिंह सब्यसाची सिंह डब्बू सिंह हेलमेट मैन राघवेंद्र कुमार सभी परिवार के सदस्य हैं.