महाराष्ट्र सरकार के गठन से भागवत का कोई नाता नहीं -नितिन गडकरी

केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने महाराष्ट्र में बीजेपी और शिवसेना के बीच मुख्यमंत्री पद के लिए चल रही रस्साकशी को लेकर आज साफ कर दिया कि चूंकि ज्यादा सीटें बीजेपी की हैं इसलिए सीएम तो बीजेपी का ही बनेगा इस विवाद को सुलझाने के लिए संघ प्रमुख मोहन भागवत के हस्तक्षेप के सवाल पर गडकरी ने कहा कि  उन्हें इससे नहीं जोड़ा जाना चाहिए गडकरी ने उनको महाराष्ट्र भेजकर सरकार की कमान सौंपने के कयासों पर भी यह कहकर विराम लगा दिया कि वे दिल्ली में कम कर रहे हैं और महाराष्ट्र में आने का सवाल ही नहीं उठताकेंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने बृहस्पतिवार को कहा कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ(आरएसएस) के सरसंघचालक मोहन भागवत का नाम महाराष्ट्र में सरकार गठन संबंधी कदमों से नहीं जोड़ा जाना चाहिए साथ ही उन्होंने कहा कि राज्य में सरकार बनाने पर जल्द फैसला लिया जाएगाण् उन्होंने कहा कि चूंकि भाजपा ने शिवसेना से ज्यादा सीटें जीती हैंए इसलिए मुख्यमंत्री उन्हीं की पार्टी का होगा 


संवाददाताओं से बातचीत के दौरान शीर्ष पद संभालने के लिए राज्य में अपनी वापसी की खबरों को भी खारिज कर दिया उन्होंने कहा फडणवीस नई सरकार का नेतृत्व करेंगे गडकरी ने एक सवाल के जवाब में कहा ष्ष्आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत या संघ का इससे कोई संबंध नहीं हैण् जो चल रहा है ;सरकार गठन को लेकरद्ध उससे आरएसएस सरसंघचालक को जोड़ना सही नहीं होगार्ता किशोर तिवारी ने हाल में कहा था कि भागवत को भाजपा और शिवसेना के बीच सत्ता संग्राम सुलझाने की जिम्मेदारी गडकरी को सौंपनी चाहिए गडकरी ने कहा कि भाजपा और शिवसेना को राज्य में नई सरकार के गठन के लिए जनादेश मिला है और बहुत जल्द एक फैसला लिया जाएगा उन्होंने कहा भाजपा ने 105 सीट जीतीं निश्चित तौर पर मुख्यमंत्री भाजपा को होगा पार्टी जिसने विधानसभा चुनाव में ज्यादा सीटें जीतीं मुख्यमंत्री उसी का होगा हालांकि गडकरी ने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि भाजपा और शिवसेना के बीच गतिरोध सुलझ जाएगा उन्होंने कहाए महाराष्ट्र को देवेंद्र फडणवीस के नेतृत्व में भाजपा.शिवसेना की सरकार बनेगी